nationalTop News

भारत में मंकीपॉक्स ने बढ़ाई टेंशन! कितना घातक है ये वायरस, सरकार को क्या कदम उठाने चाहिए?

भारत को आगे क्या करना चाहिए ?

कोरोना महामारी से भारत सरकार को सीख लेनी चाहिए। सरकार को मेडिकल इमरजेंसी से निपटने के लिए वो भरपूर प्रयास करने चाहिए जो बेहद जरूरी हो, क्योंकि मंकीपॉक्स कोरोना जैसा नहीं है लेकिन सरकार ने जिस तरह कोरोना को शुरूआती समय में नजरअंदाज किया, ऐसा इस केस में भी होता है तो ये भी परेशानी का सबब बन सकती है। इसलिए जरूरी है कि मंकीपॉक्स को देखते हुए सरकारी अस्पतालों में विशेष रूप से मेडिकल हॉस्पिटल्स में तैयारी करने की जरूरत है।

वहां आईसीयू स्पेशलिस्ट तैनात करने की जरूरत है जो मंकीपॉक्स के मरीजों का उचित तरीके से इलाज कर सके। ज्यादातर डॉक्टरों या स्वास्थ्य विभाग से जुडे़ अधिकारियों का भी यही तर्क है।

इसके अलावा कोरोना महामारी के दौरान सोशल डिस्टेंस और स्वच्छता के जो उपाय को हमने अपने जीवन में शामिल किया था, उसे दोबारा करने की जरूरत है। ऐसा करने से न सिर्फ कोरोना बल्कि अन्य संक्रामक रोगों को रोकने में मदद करेगी। फिलहाल की बात करें तो कोरोना के शुरूआती दौर में जिस तरह लोग लापरवाह थे वैसी ही लापरवाही फिलहाल देश में अधिकतर लोग कर रहे हैं।

इसके अलावा स्वास्थ्य अधिकारी कहते हैं कि यह समय चेचक के टीकों का उत्पादन शुरू करने का है। मंकीपॉक्स की रोकथाम और मंकीपॉक्स के मामलों के उपचार दोनों में यह हमारी मदद करेगा।

इसे भी पढ़ें: केरल में मंकीपॉक्स के पहले मामले की पुष्टि, संदिग्ध मरीज की रिपोर्ट पॉजिटिव

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button