national

कई देश रुपये में द्बिपक्षीय व्यापार करने के इच्छुक : Sitharaman

नयी दिल्ली | वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्बारा हाल ही में एक तंत्र की घोषणा के बाद कई देशों ने रुपये में 'द्बिपक्षीय व्यापार करने में रुचि दिखाई है। वित्त मंत्री ने हीरो माइंडमाइन शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि यह सरकार द्बारा किए गए अन्य उपायों के साथ पूर्ण पूंजी खाता परिवर्तनीयता की दिशा में उठाया गया कदम है। यह पूछे जाने पर कि क्या भारत पूंजी खाते में बदलाव के लिए तैयार है, उन्होंने कहा यह रूबल-रुपये का पुराना प्रारूप नहीं है। अब यह द्बिपक्षीय रुपया व्यापार का प्रारूप आया है। मुझे खुशी है कि केंद्रीय बैंक इसे ऐसे समय लाया है, जब यह बहुत महत्वपूर्ण था।

उन्होंने इस बात पर प्रकाश डालते हुए कि कई देशों ने रुपये में व्यापार करने में रुचि दिखायी है, कहा, ''एक तरह से यह भारतीय अर्थव्यवस्था को हमारी उम्मीद से अधिक खोलने के समान है। सीतारमण ने कहा, ''कोविड-19 महामारी के बाद भारत काफी अधिक संख्या में कुछ अलग हटकर समाधान लेकर आ रहा है…जिस तरह से हम आगे बढ़कर अन्य देशों से बात कर रहे हैं, वैसे ही हम सीमापार लेनदेन को सक्षम करने के लिए देशों के बीच अपने डिजिटल मंच को अंतर-संचालित (इंटरऑपरेबल) बनाने के भी इच्छुक हैं।'' गौरतलब है कि रिजर्व बैंक ने इस साल जुलाई में एक विस्तृत परिपत्र जारी कर बैंकों से घरेलू मुद्रा में वैश्विक व्यापारिक समुदाय की बढ़ती रुचि को देखते हुए रुपये में निर्यात और आयात लेनदेन के लिए अतिरिक्त व्यवस्था करने के लिए कहा था।
रिजर्व बैंक द्बारा रुपये में सीमापार व्यापार लेनदेन की अनुमति देने की घोषणा मुद्रा के अंतरराष्ट्रीयकरण की दिशा में समय पर उठाया गया कदम है।

मौजूदा समय में यूक्रेन पर रूसी हमले के बाद से भारत और रूस के बीच द्बिपक्षीय व्यापार का एक बड़ा हिस्सा अमेरिका एवं यूरोप द्बारा लगाये गये प्रतिबंधों के चलते रुपये में हो रहा है। केंद्रीय बैंक ने कहा था कि व्यापार लेनदेन के निपटान के लिए संबंधित बैंकों को साझेदार व्यापारिक देश के बैंकों के विशेष रुपया 'वोस्ट्रो खातों की जरूरत होगी। वोस्ट्रो ऐसा खाता होता है जो एक संपर्ककताã बैंक दूसरे बैंक की ओर से रखता है। उदाहरण के लिए किसी विदेशी बैंक का वोस्ट्रो खाता भारत में किसी घरेलू बैंक द्बारा संभाला जा रहा है। इन खातों का इस्तेमाल विदेशी व्यापार के निपटान किया जाता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button