national

मुंबई में शिवसेना के खिलाफ एकजुट हुई बीजेपी-कांग्रेस, शिंदे सरकार से CBI जांच की मांग

कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद मिलिंद देवड़ा ने बुधवार को आरोप लगाया कि नगर निगम ने पिछले पांच सालों में मुंबई की सड़कों के लिए 12,000 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। उन्होंने मांग की कि मुंबई के साथ किए गए भ्रष्टाचार की सीबीआई जांच कराई जाए। बीजेपी के बाद अब महाविकास अघाड़ी में शामिल कांग्रेस ने भी मुंबई में सड़कों के मुद्दे पर शिवसेना पर परोक्ष रूप से निशाना साधा है।

मिलिंद देवड़ा ने ट्वीट कर कहा कि मुंबई नगर निगम ने 2017 से 2022 तक पांच साल में सड़कों के लिए करीब 12,000 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। यह राशि राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के बजट का लगभग 10 प्रतिशत है। हालांकि, हर साल मुंबईकरों को सड़क के गड्ढों की समस्या का सामना करना पड़ता है।

मिलिंद देवड़ा ने कहा कि मुंबई को यह जानने का हक है कि देश की सबसे अमीर नगर पालिका को कौन लूट रहा है। देवड़ा ने भ्रष्टाचार की श्रृंखला की सीबीआई जांच की मांग की। राज्य सरकार के पास इस मामले की जांच करने और मुंबई नगर निगम में भ्रष्टाचार का पर्दाफाश करने का भी अधिकार है।

साथ ही उन्होंने यह भी सवाल किया कि क्या महाराष्ट्र सरकार के पास सीबीआई की जांच करने की राजनीतिक इच्छाशक्ति है। इसकी कीमत कितनी होती है? मिलिंद देवड़ा ने अपने ट्वीट में मुंबई में हर साल सड़कों पर खर्च होने वाले फंड के आंकड़े जारी किए हैं।

मिलिंद देवड़ा के ट्वीट के मुताबिक 2017-18 में 2300 करोड़, 2018-19 में 2250 करोड़, 2019-20 में 2560 करोड़, 2020-21 में 2200 करोड़ और 2021-22 में 2350 करोड़ खर्च किए गए है। इसके अलावा सड़कों के रखरखाव की लागत अलग है। गड्ढों के लिए कोल्ड मिक्सचर पर सालाना 45 करोड़ रुपये खर्च किए जाते हैं।

देवड़ा ने आरोप लगाया कि पिछले पांच साल में 225 करोड़ खर्च किए गए हैं। मिलिंद देवड़ा आगामी मुंबई नगरपालिका चुनावों से पहले फिर से सक्रिय होते दिख रहे हैं। आपको बता दें कि पिछली सरकार ने मुंबई नगर निगम के वार्ड का पुनर्गठन किया था। इस पुनर्गठन से कांग्रेस नाराज थी। वार्ड पुनर्गठन में कई मौजूदा कांग्रेस पार्षद प्रभावित हो रहे थे। इस पर कांग्रेस के अन्य नेताओं के साथ मिलिंद देवड़ा ने भी आपत्ति जताई थी।

राज्य में सत्ता में आने के बाद मिलिंद देवड़ा ने कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल के साथ उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात की और वार्ड के पुनर्गठन की मांग की थी। इस बीच, शिवसेना विधायक सदा सर्वंकर ने वित्तीय अनियमितताओं का आरोप लगाते हुए भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के माध्यम से जांच की मांग की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button