State

काेयला संकट से जूझ रहे उद्याेगाें काे दिल्ली में हाेने वाली बैठक से राहत की उम्मीद

रायपुर(realtimes) छत्तीसगढ़ के साथ देश भर के स्टील उद्याेगाें काे अब तक काेयला संकट से मुक्ति नहीं मिल सकी है। अगले सप्ताह दिल्ली में हाेने वाली बैठक पर ही सबकी नजरें टिकी हैं। इसी बैठक में कुछ राहत मिलने की संभावना है। इस समय प्रदेश के स्पंज आयरन और रोलिंग मिलों की भट्टी विदेशी कोयले से ही धधक रही है। स्पंज आयरन को एसईसीएल से कोयला मिलना बंद हो गया है। बैकलॉक का जो थोड़ा बहुत कोयला कुछ उद्योगों का बचा है, वही मिल रहा है। उद्योगों को चलाने के लिए विदेशी कोयले का ही उपयोग हो रहा है। इस कोयले के दम पर लंबे समय तक उद्योगों को चलाना संभव नहीं होगा, ऐसे उद्योगपतियों का साफ कहना है।

कोयले को लेकर देश भर के नॉन पॉवर सेक्टर में हाहाकार मचा हुआ है। प्रदेश के स्पंज आयरन उद्योगों को भी कोल इंडिया के एसईसीएल से कोयला मिलता है। इनका पांच साल का लिंकेज समाप्त हो गया है। ऐसे में इनको इस साल से कोयला मिलना बंद हो गया है। इसको लेकर भारी संकट की स्थिति है। अगर कोल इंडिया से कोयला नहीं मिला तो उद्योगों में ताले लग जाएंगे। इस समय जिन उद्योगों का मार्च का बैकलॉक कोयला बचा था, वह मिला है। स्पंज आयरन एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल नचरानी का कहना है, अलग-अलग उद्योगों का अलग-अलग लिंकेज रहता है। कुछ उद्योगों के पास एक-दो माह का लिंकेज बचा है उनको कोयला मिलेगा इसके बाद कोयला मिलना बंद हो जाएगा। इस समय 80 फीसदी उद्योगों का लिंकेज समाप्त हो गया है। अगर इनके लिंकेज का नवीनीकरण नहीं हुआ तो विदेशी कोयले से उद्योग चलाना संभव नहीं होगा।

लिकेंज के नवीनीकरण का प्रयास

छत्तीसगढ़ स्पंज आयरन एसोसिएशन लिंकेज का नवीनीकरण कराने के लिए लगातार प्रयासरत है। पहले कोलकाता में कोल इंडिया के चेयरमैन प्रमोद अग्रवाल से मुलाकात की तो उन्होंने हाथ खड़े कर दिए और साफ कहा, केंद्र सरकार की अनुमति के बिना कुछ भी होना संभव नहीं है। ऐसे में एसाेसिएशन के प्रतिनिधि मंडल ने चार अगस्त को केंद्रीय स्टील सचिव संजय सिंह से मुलाकात करके उनको अपनी समस्या बताई थी। श्री नचरानी ने बताया, स्टील सचिव ने बताया था देश भर के उद्योगों से पत्र आ रहे हैं। उन्होंने बताया 15 दिनों में बैठक करके इसका समाधान निकाला जाएगा। श्री नचरानी ने बताया, उनकी लगातार स्टील सचिव के दफ्तर में बात हो रही है। संभावना है अगले सप्ताह दिल्ली में उद्योगों की बैठक होगी, इसमें समाधान निकालने का प्रयास होगा। इस बैठक में केंद्रीय कोल सचिव, कोल इंडिया के चेयरमैन भी शामिल होंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button