nationalTop News

महंगाई-बेरोजगारी के खिलाफ कांग्रेस फिर बोलेगी हल्ला, 28 अगस्त को रामलीला मैदान में रैली, देशभर में लगेगी ‘मंहगाई चौपाल’

देश में लगातार बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी और जरूरी सामान पर लगाई गई जीएसटी के खिलाफ कांग्रेस फिर से देश भर में विरोध प्रदर्शन करेगी। वहीं 28 अगस्त को दिल्ली के रामलीला मैदान में महंगाई पर हल्ला बोल रैली का आयोजन किया जाएगा।

फोटो: @INCIndia
user

Engagement: 0

देश में लगातार बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी और जरूरी सामान पर लगाई गई जीएसटी के खिलाफ कांग्रेस फिर से देश भर में विरोध प्रदर्शन करेगी। वहीं 28 अगस्त को दिल्ली के रामलीला मैदान में महंगाई पर हल्ला बोल रैली का आयोजन किया जाएगा। इससे पहले देश भर के कांग्रेस नेता 17 से 23 अगस्त तक सभी विधानसभा क्षेत्रों की मंडियों, खुदरा बाजारों और अन्‍य स्‍थानों पर ‘मंहगाई चौपाल’ का आयोजन करेंगे। जिसका समापन 28 अगस्त को नई दिल्‍ली के रामलीला मैदान में ‘मंहगाई पर हल्‍ला बोल’ रैली के रूप में होगा।

राज्यसभा सांसद और कांग्रेस के मीडिया प्रभारी जयराम रमेश ने गुरुवार को एक वक्‍तव्‍य जारी कर इस संबंध में जानकारी दी। रमेश ने में पीएम मोदी पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ कांग्रेस के सफल विरोध प्रदर्शन को ‘काला जादू’ के तौर पर पेश करने की पीएम मोदी की कोशिश उनके हताशा और असुरक्षा को प्रदर्शित करता है।

जयराम रमेश ने कहा, “कांग्रेस पार्टी आने वाले हफ्तों में बेरोजगारी और महंगाई कि खिलाफ चल रही लड़ाई को और आगे लेकर जाएगी। कांग्रेस पार्टी 17 से 23 अगस्त, 2022 के दौरान सभी विधानसभा क्षेत्रों की मंडियों, खुदरा बाजारों और अन्‍य स्‍थानों पर आपसी विचार-विमर्श के लिए ‘मंहगाई चौपाल’ आयोजित करेगी। जिसका समापन 28 अगस्त, 2022 को नई दिल्‍ली के रामलीला मैदान में ‘मंहगाई पर हल्‍ला बोल’ रैली के रूप में होगा, जिसे वरिष्ठ कांग्रेस नेता संबोधित करेंगे।“ उन्होंने बताया कि, ‘सभी प्रदेश कांग्रेस समितियां एक साथ राज्‍य, जिला और ब्‍लॉक स्‍तर पर ‘मंहगाई पर हल्ला बोल- दिल्ली चलो’ कार्यक्रम आयोजित करेंगी।‘

कांग्रेस नेता ने कहा कि मोदी सरकार के आर्थिक कुप्रबंधन का खामियाजा पूरा देश भुगत रहा है। वहीं उनकी नीतियों के वजह से देश में बेरोजगारी चरम पर है। उन्होंने कहा कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस इन जनविरोधी नीतियों पर लोगों में जागरूकता फैलाती रहेगी और भाजपा सरकार पर इसकी गलत नीतियों को बदलने के लिए दबाव बढ़ाएगी।


Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button