national

इंडियन एयरक्रॉफ्ट ने पाकिस्तानी वॉरशिप को खदेड़ा, PAK की नापाक साजिश नाकाम

पाकिस्तान (Pakistan) अपनी नापक हरकतों से बाज नहीं आता. उसके सैनिक भारतीय सीमा में घुसने के फिराक में लगे रहते हैं. अब पाकिस्तान के घुसपैठिए जमीनी बॉर्डर (Border) से भारत (India) में घुस नहीं पा रहे हैं तो वो समुद्री सीमा से घुसपैठ करने की कोशिश में लगे है. दरअसल, एक पाकिस्तानी नौसेना युद्धपोत (Pakistan Navy Warship) गुजरात के तट से समुद्री सीमा रेखा को पार कर भारतीय जल सीमा में प्रवेश कर गया, लेकिन एक भारतीय तटरक्षक (Indian Coast Guard) डोर्नियर (समुद्री निगरानी विमान) ने इसका पता लगाया और उसे पीछे हटने के लिए मजबूर किया गया.

सरकारी सूत्रों ने एएनआई को बताया, ये कार्रवाई जुलाई की पहली छमाही में समुद्रों पर हुई थी, जब पाकिस्तान नौसेना का जहाज आलमगीर अपनी तरफ से दोनों देशों के बीच समुद्री सीमा रेखा के पार भारतीय जल क्षेत्र में घुस गया था. उन्होंने कहा, ‘भारतीय जल सीमा में प्रवेश करने के तुरंत बाद इसका पता सबसे पहले एक भारतीय तटरक्षक डोर्नियर विमान ने लगाया, जो आसपास के एक एयर पोर्ट से समुद्री निगरानी के लिए रवाना हुआ था.’

पाकिस्तानी युद्धपोत को पीछे हटने पर किया मजबूर
सूत्र ने आगे कहा, ‘डोर्नियर पीएनएस आलमगीर पर मंडराता रहा और यहां तक कि उसकी मंशा जानने के लिए उसे अपने रेडियो संचार सेट पर कॉल करने की कोशिश की, लेकिन पाकिस्तानी कप्तान ने पूरी तरह चुप्पी बनाए रखा और कोई जवाब नहीं दिया’. सूत्रों ने कहा, ‘डोर्नियर ने पाकिस्तानी युद्धपोत के ठीक सामने दो या तीन बार उड़ान भरी, जो कुछ समय बाद अपनी तरफ से पीछे हट गया, यह अच्छी तरह से जानते हुए कि उसकी उपस्थिति का पता चला है’.

नेवी और एयरफोर्स दोनों गुजरात तट पर तैनात
भारतीय तटरक्षक बल और भारतीय वायु सेना गुजरात तट पर सर क्रीक क्षेत्र से उच्च समुद्र तक किसी भी दुस्साहस को रोकने के लिए बहुत सक्रिय है, जहां हाल के दिनों में पाकिस्तानी गतिविधियां विशेष रूप से नार्को-आतंकवाद में बढ़ी हैं. भारतीय तटरक्षक बल ने हाल ही में द्वारका के पास निर्जन द्वीपों और किसी भी संभावित राष्ट्र-विरोधी तत्वों के अन्य तटीय स्थानों को साफ करने के लिए ऑपरेशन आइलैंड वॉच को अंजाम दिया.

बता दें कि भारतीय तटरक्षक बल (Indian Coast Guard) के महानिदेशक वीएस पठानिया (VS Pathania) ने भी हाल ही में पोरबंदर क्षेत्र (Porbandar Area) का दौरा किया था. साथ ही वहां अपनी तैयारियों की समीक्षा की और तटीय निगरानी के लिए नए एएलएच (ALH) ध्रुव हेलिकॉप्टरों (Helicopter) को शामिल किया.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button