State

शादियों के आधा दर्जन मुहूर्त में थोक में बजेगी शहनाई, मैरिज हॉल, होटल, कैटरिंग, टेंट वालों की जमकर होगी कमाई

रायपुर(realtimes) शादियों के सीजन का आगाज देवउठनी एकादश से हो गया है। इसी के साथ इसके सेक्टर से जुड़े हर सेक्टर की जमकर कमाई भी हाेने लगी है। करीब दाे साल बाद शादियां पूरी आजादी के साथ हाे रही हैं। इस बार मेहमानाें की संख्या सीमित रखने का नियम नहीं है। नवबंर के बचे एक सप्ताह के साथ 13 दिसंबर तक शादियों के महज आधा दर्जन मुहूर्त ही हैं। इन मुहूर्त में थोक में राजधानी रायपुर के साथ प्रदेश भर में हजारों शादियां होने वाली हैं। इसके लिए लाेगाें ने भी पहले से मैरिज हाल, हाेटल, सामुदायिक, भवन, स्कूल और धर्मशालाएं बुक करवा के रखी हैं। यही नहीं कैटिरंग और टेंट वालाें के पास भी पहले से ही बुकिंग हैं। धुमाल पार्टी भी सारी बुक हाे गई है। कुल मिलाकर एक माह के दौर में जो चुनिंदा मुहूर्त हैं, उसमें सौ करोड़ से ज्यादा का कारोबार होने की संभावना है।

कोराेना के कहर के कारण दो साल में शादियों के तीन सीजन बर्बाद हो चुके हैं। लेकिन अब चौथे सीजन में जमकर शादियां होने लगीं हैं। इसका अगाज हो भी गया है। लेकिन इस सीजन में इस साल के दो माह में कम मुहूर्त होने की वजह से लोगों ने काफी पहले से ही सारी व्यवस्था कर ली है। राजधानी रायपुर के साथ पूरे प्रदेश में सारे होटल और बड़े छोटे मैरिज हॉल दिसंबर के मुहूर्त तक ही नहीं बल्कि फरवरी तक तो बुक हो चुके हैं। इसी के साथ कैटरिंग, टेंट, धुमाल और डीजे वालों की भी बुकिंग हो गई है।

जमकर होने लगा कारोबार

कोराेना का कहर अभी लगभग थम सा गया है। 15 नवंबर काे देवउठनी एकादशी से शादियों का आगाज हो चुका है। इसके बाद 19 नवंबर को शादी के पहले मुहूर्त में भी पूरे प्रदेश में हजारों की संख्या में शादियां हुईं हैं। इसी के साथ शादियों से जुड़ा कारोबार भी जमकर होने लगा है। अब 13 दिसंबर तक सिर्फ और सिर्फ छह मुहूर्त ही बचे हैं। नवंबर में जहां 28 और 30 नवंबर को मुहूर्त है, वहीं दिसंबर में 1, 7, 11 और अंतिम मुहूर्त 13 दिसंबर को है। इसके बाद सीधे 22 जनवरी को मुहूर्त है। जो मुहूर्त अभी हैं, इनके लिए सारी बुकिंग पहले से हो चुकी है। राजधानी के सभी बड़े-छोटे होटलों के साथ मैरिज हाॅल बुक हो गए हैं। राजधानी में 50 से ज्यादा बड़े होटल और मैरिज हॉल हैं। ये सभी बुक हो चुके हैं। इसी के साथ सामुदायिक भवन, छाेटे मैरिज हॉलों में भी स्थान नहीं है। कमोवेश यही स्थिति दुर्ग, भिलाई, बिलासपुर, कोरबा, रायगढ़, अंबिकापुर, राजनांदगांव सहित प्रदेश के सभी शहरों के साथ छोटे शहरों की भी हैं। इस बार शादियों के सीजन में होटल, मैरिज हॉल के साथ कैटरिंग और टेंट वालों का भरपूर कारोबार होने वाला है। कैटरिंग और टेंट कारोबार से जुड़े जसपाल सिंह होरा का कहना है, इस बार शादियों के दिसंबर तक मुहूर्त में होटल, मैरिज हॉल, कैटरिंग, टेंट और धुमाल को मिलाकर सौ करोड़ से ज्यादा का कारोबार होने की पूरी संभावना है। जिस तरह से अब तक के मुहूर्त में कारोबार हुआ है, उससे भारी उत्साह का माहौल है। ऐसे में लग रहा है कि पूरे सीजन में पांच सौ करोड़ के आस-पास कारोबार होगा।

अपने मोबाइल पर REAL TIMES का APP डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
COVID-19 LIVE