City

भाजपा ने अब मृतक के परिजनों को एक करोड़ मुआवजा देने की रखी मांग, कांग्रेस ने कहा- स्तरहीन राजनीति

घायलों को 50-50 लाख दे राज्य सरकार – शिवरतन

रायपुर(realtimes) पत्थलगांव के मामले में भाजपा ने पहले 50 लाख के मुआवजे की मांग रखी थी। जब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 50 लाख देने का ऐलान कर दिया ताे अब भाजपा ने अचानक एक कराेड़ देने की मांग रख दी है। भाजपा विधायक ‌शिवरतन शर्मा और प्रवक्ता संजय शर्मा ने पत्थलगांव की घटना की भी न्यायिक जांच की मांग की है।  साथ ही भाजपा नेताओं ने कवर्धा की घटना को लेकर भी एक बार फिर से न्यायिक जांच की मांग की है। प्रेस कांफ्रेस और आंदोलन को कांग्रेस ने भाजपा की स्तरहीन राजनीति बताया है।

एकात्म परिसर में पत्रकारों से चर्चा करते हुए विधायक शिवरतन शर्मा ने कहा, पत्थलगांव में दुर्गा विसर्जन जुलूस के लिए बकायदा प्रशासन से अनुमति ली गई थी। जुलूस से एक दिन पहले शांति समिति की बैठक भी हुई थी। इसके बाद भी विसर्जन जुलूस के समय सुरक्षा के कड़े प्रबंध नहीं थे। दुर्घटना में घायल 16 लोग अस्पताल में दाखिल हैं और ये सभी आदिवासी हैं। इस घटना को लेकर दो एफआईआर हुई। पहली एफआईआर में गांजा तस्करी का उल्लेख नहीं है, जबकि शाम को जो दूसरी एफआईआर हुई, उसमें तस्करी का मामला जोड़ा गया है। इससे संदेह को बल मिलता है।

श्रीा शर्मा ने कहा, उत्तरप्रदेश के लखीमपुर और पत्थलगांव की घटना को एक ही तराजू में नहीं तौला जा सकता है। उन्होंने कहा, एक तरफ मुख्यमंत्री लखीमपुर खीरी घटना के लिए उत्तरप्रदेश जाते हैं। वहां लोकतंत्र खतरे में होने की बात कहते हुए लखनऊ एयरपोर्ट पर धरने पर बैठ जाते हैं, लेकिन यहां पत्थलगांव एवं कवर्धा में जो बड़ी घटनाएं हुईं, उसके लिए इन दोनों स्थानों पर जाने के लिए उनके पास समय नहीं है। श्री शर्मा ने यह भी आरोप लगाया कि छत्तीसगढ़ में नशे का कारोबार जो फल-फूल रहा है, उसमें कांग्रेस के कई बड़े चेहरे लिप्त हैं।

जशपुर मामले में भाजपा स्तरहीन राजनीति कर रही

जशपुर मामले में भाजपा द्वारा ली गई  प्रेस कांफ्रेस और आंदोलन को कांग्रेस ने भाजपा की स्तरहीन राजनीति बताया है। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा है कि जब घटना के अपराधी गिरफ्तार हो चुके है। गिरफ्तार दोनों आरोपियों के खिलॉफ धारा 302 के तहत हत्या का मुकदमा दर्ज हो चुका है। अपराधियों के विरूद्ध गांजा तस्करी के लिये 20 बी एन डी पीएस एक्ट के तहत भी मुकदमा दर्ज किया जा चुका है। प्रथम दृष्टया लापरवाह पुलिस अधिकारियों पर कार्यवाही की जा चुकी है। मृतक के परिजनों को 50 लाख मुआवजा देने की घोषणा मुख्यमंत्री ने कर दी है। घायलों का समुचित बेहतर इलाज करवाया जा रहा है। फिर भारतीय जनता पार्टी इस दुर्घटना को लेकर किस बात का आंदोलन कर रही है।

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी छत्तीसगढ़ में रोड एक्सीडेंट की घटना पर इतनी कड़ी कार्यवाही के बाद आंदोलन की नौटंकी कर रही है। लखीमपुर की घटना के समय भाजपाईयों की संवेदना कहां गयी थी। वहां पर तो भाजपा नेता के पुत्र ने आंदोलनरत किसानों को मारने का इरादा बनाकर गाड़ी चढ़ा कर उनकी हत्या किया था तब भी योगी सरकार को हत्या का मुकदमा दर्ज करने में पांच दिन लग गये थे। सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद भाजपा नेता के पुत्र को सरेंडर करने का अवसर दिया गया था। हत्या के आरोपी को सरेंडर का अवसर दिया जाता है या उसका गिरेबान पकड़ कर सलाखों के पीछे डाला जाता है। भाजपा बताये जशपुर के जैसे त्वरित कार्यवाही लखीमपुर में क्यों नही हुयी थी?

श्री शुक्ला ने कहा कि भाजपा ने लाश पर राजनीति कर रही है। पहले भाजपा ने घटना को सांप्रदायिक रंग देने का प्रयास किया जब सफल नहीं हुये तब आंदोलन को नौटंकी कर रहे है। भाजपा को स्पष्ट करना चाहिये कि घटना में पकड़ाये अपराधी का मध्यप्रदेश के सिंगरौली की भाजपा नेत्री से क्या संबंध है? भाजपा शासित मध्यप्रदेश नशा और गांजा की खपत का इतना बड़ा अड्डा कैसे बन गया है। आज उड़ीसा से निकलने वाला गांजा जो छत्तीसगढ़ में लगातार पकड़ा जा रहा है वह मध्यप्रदेश ही जाता है इसका सीधा अर्थ है कि मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार नशे के कारोबार गांजा तस्करों को प्रश्रय दे रही है। भाजपा मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार के खिलाफ आंदोलन का साहस क्यों नहीं दिखाती? भाजपा जशपुर की घटना में पकड़ाये अपराधी की रिश्तेदार जो सिंगरौली भाजपा की नेत्री है उस पर कार्यवाही का साहस क्यों नहीं दिखाती है।

अपने मोबाइल पर REAL TIMES का APP डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
COVID-19 LIVE