State

नया मोटर व्हीकल एक्ट अव्यावहारिक – अकबर

शिक्षक दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में हुए शामिल
बताया क्यों हर साल मनाया जाता है शिक्षक दिवस

कवर्धा(realtimes) कैबिनेट मंत्री (Cabinet Minister)मोहम्मद अकबर(Mohammad akbar) ने शिक्षक दिवस के अवसर पर 5 सितंबर को गुरुकुल पब्लिक स्कूल के नए कन्या छात्रावास का उद्धाटन किया। इस अवसर पर श्री अकबर ने सभी सम्माननीय शिक्षकों को शिक्षक दिवस की बधाई एवं शुभकामनाएं दीं।

उन्होंने कहा कि शिक्षक दिवस हमारे देश के राष्ट्रपति सवर्पल्ली राधाकृषणन के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है। जब वे राष्ट्रपति बने तो लोगों ने कहा कि हम आपका जन्म दिन मनाना चाहते हैं। इस पर उन्होंने कहा कि मेरा जन्म दिन मनाने की जगह पांच सितंबर को शिक्षक दिवस मनाएं। इसके बाद से यह परंपरा चल रही है हर पांच सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है।

श्री अकबर ने कहा कि इसी शिक्षक दिवस के अवसर पर आप सभी यहां एकत्र हुए हैं। मैं अपनी ओर से सभी गुरुजनों को प्रणाम करता हूं। उन्होंने कहा कि मुझे ये जानकर खुशी हुई की यहां गुरकुल पब्लिक स्कूल में को-एजुकेशन है बच्चे-बच्चियां सब मिलकर पढ़ते हैं। परिवार में जब कोई बालक शिक्षित होता है तो सिर्फ बालक शिक्षित होता है। परिवार की कोई बालिका शिक्षित होती है तो पूरा परिवार शिक्षित होता है। 2145 स्टुडेंटस यहां पंजीकृत हैं,इस पूरे अंचल में स्कूल का बड़ा नाम है। कवर्धा ही नहीं दूरस्थ अंचल के बच्चे भी यहां आकर पढ़ते हैं।

नया मोटर व्हीकल एक्ट इसलिए है अव्यावहारिक

इस अवसर पर मंंत्री श्री अकबर ने विशेष रूप से भारत सरकार द्वारा लागू किए गए नए मोटर व्हीकल एक्ट की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कोई बच्चा अगर कोई बाइक या अन्य दुपहिया लेकर चलाने निकलता है तो उसके पकड़े जाने पर मां-बाप को तीन साल की सजा का प्रावधान है। यह कानून देश में लागू हुआ है,लेकिन छत्तीसगढ़ सरकार ने इसे रोककर रखा है कि इसका परीक्षण किया जाएगा। राज्य का विधि विभाग इसका अध्यक्ष करेगा। इसके बाद राज्य की जनता के हित में जो सर्वोत्तम होगा उसे लागू किया जाएगा। इसी कानून के के तहत कम्युनिटी सर्विस का भी उल्लेख उन्होंने किया और कहा कि ये कानून पूरी तरह से अव्यावहारिक है। इस कानून के तहत कोई पकड़ा जाता है तो उसे पांच दिन काम करना होता है। यह काम गढ्डा खोदने का भी हो सकता है। यह व्यवस्था विदेशों में अपनाई जाती है लेकिन यहां के लिए व्यावहारिक नहीं है। उन्होंने कहा कि विदेश व हमारे देश के कानून में भारी अंतर है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button