national

अनिल देशमुख मामले में सीबीआई जांच पर कांग्रेस नाराज

पुणे। कांग्रेस ने रविवार को कहा कि महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख मुंबई के  100 करोड़ रूपए वसूलने संबंधी निर्देशों के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह के आरोपों में केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई)  के जांच अधिकारी को उनकी कोई  भूमिका नजर नहीं आई और इसके बाद जांच बंद कर दी गई , लेकिन केंद्रीय एजेंसी ने किसी ‘साजिश’ के तहत जांच अधिकारी की  रिपोर्ट को पलट दिया।

महाराष्ट्र कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने जांच अधिकारी की रिपोर्ट को दरकिनार करने के लिए सीबीआई द्वारा रची साजिश को उच्चतम न्यायालय की निगरानी में जांच करवाने की मांग की है।

 

इस साल 24 अप्रैल को देशमुख और कुछ अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ भ्रष्टाचार और कदाचार के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। सीबीआई ने उच्च न्यायालय के आदेश का पालन करते हुए इस मामले में प्रारंभिक जांच शुरू की थी। पूर्व पुलिस आयुक्त ने आरोप लगाया  था कि देशमुख ने कुछ पुलिस अधिकारियों को मुंबई के बार और रेस्टोरेंट से हर महीने 100 करोड़ रुपए की वसूली  करने को कहा था। श्री देशमुख ने  मामले की प्रारंभिक जांच के आदेश के बाद अप्रैल में गृहमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया लेकिन इस तरह के आरोपों को निराधार करार दिया। 

 

सावंत ने ट्वीट किया, ‘‘प्रारंभिक जांच में सीबीआई के जांच अधिकारी इस निष्कर्ष पर पहुंचे की कि पूर्व पुलिस आयुक्त के तथाकथित 100 करोड़ रुपये  एकत्र करने के आरोप में अनिल देशमुख की कोई भूमिका नहीं है और जांच को बंद कर दिया है।’’ सावंत ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘हम इस साजिश की उच्चतम न्यायालय की निगरानी में जांच की मांग करते हैं ताकि यह पता लगाया जा सके कि किसके इशारे पर सीबीआई के जांच अधिकारी की रिपोर्ट को पलटकर एजेंसी ने अपना रुख बदला। उच्च न्यायालय ने देशमुख के खिलाफ प्रारंभिक जांच के लिए कहा था लेकिन हाईकोर्ट को गुमराह कर प्राथमिकी दर्ज कर सीबीआई ने बहुत बड़ा अपराध किया है।’’ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के वरिष्ठ नेता देशमुख ने कहा कि उनके खिलाफ चल रही सीबीआई जांच गैर कानूनी है क्योंकि केंद्रीय एजेंसी ने उन पर मुकदमा चलाने के लिए महाराष्ट्र सरकार से पहले इसकी मंजूरी नहीं ली थी।

 

सावंत ने यह कहा कि इससे स्पष्ट है कि मोदी सरकार कैसे इन एजेंसियों को अपने राजनीतिक विरोधियों को निशाना बनाने के लिए हथियार के रूप में इस्तेमाल कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि अदालतों को भी गुमराह किया, नियम तोड़े गए, पूछताछ भी निरंतर चलती रही। ऐसी साजिशें बिना किसी रोकटोक के निरंतर चलती रही। ऐसे बड़े समय में हमारे लोकतंत्र को बचाने के लिए पूरे देश को एक साथ आना चाहिए। राकांपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता और महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने सीबीआई से अनिल देशमुख मामले की ‘सटीक जानकारी देने की मांग की है।

 

अपने मोबाइल पर REAL TIMES का APP डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button