State

वन मंत्री अकबर ने वर्षा ऋतु 2021 के वृक्षारोपण कार्य का किया शुभारंभ

25 जून से वाहन द्वारा घर पहुंच निःशुल्क पौधा प्रदाय योजना का होगा शुभारंभ
औषधीय, ईमारती, फलदार तथा शोभादार पौधों की प्रजातियां निःशुल्क उपलब्ध, घर बैठै प्राप्त कर सकते है पौधे

कवर्धा(realtimes) प्रदेश के वन, परिवहन, आवास एवं पर्यावरण मंत्री मोहम्मद अकबर द्वारा कवर्धा वन मंडल में पौधा रोपण करके वर्षा ऋतु 2021 के वृक्षारोपण कार्य का शुभारंभ किया गया। कबीरधाम जिले में कवर्धा वन मंडल के द्वारा इस वर्षा ऋतु में जिले के विभिन्न स्थानों पर 8 लाख 50 हजार से ज्यादा पौधों का मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना, हरियाली प्रसार योजना, वाहन द्वारा घर पहुंच निशुल्क पौधा प्रदाय-पौधा तुहंर दुआर योजना, वन क्षेत्र के अंदर वृक्षारोपण, पथ वृक्षारोपण, मनरेगा से निःशुल्क वितरण के लिए पौधा प्रदाय योजनाओ में वृक्षारोपण किया जाएगा।

वन मंडलाधिकारी दिलराज प्रभाकर ने बताया कि पौधा तुहंर दुआर योजना में 25 जून से वाहन द्वारा घर पहुंच निःशुल्क पौधा प्रदाय योजना का शुभारंभ कवर्धा वन मंडल से होगा। इस योजना अंतर्गत वन मंडल कवर्धा के पास बांस, नीम, रामफल, आंवला, करंज, इमली, महुआ, हर्रा, बहेड़ा, सफेद सिरस, लाल सिरस, अर्जुन, आम, जामुन, अमरूद, मुनगा, सीताफल, कटहल, बेल, पपीता, अनार, बादाम, पैल्टाफॉर्म और गुलमोहर जैसी औषधीय, ईमारती, फलदार तथा शोभादार पौधों की प्रजातियां निःशुल्क प्रदाय करने के लिए उपलब्ध हैं। इन पौधों को घर बैठे प्राप्त करने के लिए हितग्राही को नोडल अधिकारी के मोबाइल नंबर पर कॉल करके उन्हें अपना नाम, अपने गांव का नाम, कौन सी प्रजाति चाहते हैं तथा कितनी संख्या में चाहते हैं, नोट कराना होगा। निर्धारित तिथि को वन अमला द्वारा पौधा, गांव के समस्त हितग्राहियों को एक साथ वाहन से पहुंचाकर प्रदाय करवा दिया जाएगा। इस योजना में नोडल अधिकारी सुनील सोनी वनपाल, मोबाइल नंबर 9329202572 तथा नरेंद्र राजपूत वनरक्षक, मोबाइल नंबर 9340493587 रहेंगे। इनके अतिरिक्त समस्त परिक्षेत्र अधिकारियों के मोबाइल नंबर पर भी संपर्क करके हितग्राही अपनी जानकारी उन्हें नोट करा सकते हैं।

वन मंडलाधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना शासन की इस वर्ष से प्रारंभ हो रही है, यह बहुत ही महत्वपूर्ण योजना है। इस योजना के अंतर्गत लाभान्वित होने के तीन तरीके के हितग्राही हैं। प्रथम तरीके के हितग्राही ग्राम पंचायत स्तर पर पंचायत की तथा सामुदायिक भूमि पर वृक्षारोपण कर सकते हैं। दूसरे तरीक़े के हितग्राहियों में संयुक्त वन प्रबंधन समिति जिनके खाते में पर्याप्त राशि है, वह समिति की राशि से वृक्षारोपण करा सकती है तथा इसका रखरखाव कर सकती है। तीसरे तरीक़े के हितग्राही में वह सभी किसान आते हैं जो अपनी निजी भूमि पर विगत वर्ष तक गिरदावरी अंतर्गत धान की फसल लेते आए हैं परंतु इस वर्ष वह धान की फसल छोड़कर उस रकबा पर वृक्षारोपण कर रहे हैं। इन तीनों ही तरीकों के अंतर्गत किए गए वृक्षारोपण में एक वर्ष पश्चात इसकी जांच करने पर यदि 80 प्रतिशत से अधिक सफल वृक्षारोपण यानी कि 80 प्रतिशत से अधिक जीवित पौधे प्राप्त होते हैं तो प्रति एकड़ राशि 10 हजार रूपए का प्रोत्साहन विभाग की तरफ से हितग्राही को दिया जाएगा। यह प्रोत्साहन राशि आगामी कुल मिलाकर 3 वर्ष तक लगातार प्रति वर्ष 10 हजार प्रति एकड़ के दर से दी जाएगी।

वन मंडलाधिकारी ने बताया कि बाड़ी योजना में 11 जुलाई को 3000 किलोग्राम फल व सब्जियों के बीज बाड़ियों में लगाने के लिए वितरित किए जाएंगे साथ ही एक लाख से अधिक सीडबॉल वन तथा राजस्व के खाली पड़े क्षेत्रों में फैलाई जाने का वन विभाग का लक्ष्य रहेगा।

अपने मोबाइल पर REAL TIMES का APP डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button