City

रेत माफिया सरेआम कायदे-कानूनों की उड़ा रहे धज्जियां – चंद्राकर

रायपुर(realtimes) भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने कहा, प्रदेश सरकार के सत्तावादी संरक्षण में रेत माफिया सरेआम कायदे-कानूनों की धज्जियाँ उड़ाकर न केवल प्रदेश के राजस्व पर डाका डाल रहे हैं, अपितु प्रदेश की नदियों-नालों को निर्मम शोषण करने के साथ-साथ पर्यावरण को भी नष्ट करने पर आमादा हैं।

श्री चंद्राकर ने कहा, कोरबा जिले के कोरबा-पसान में पोड़ी-उपरोड़ा ब्लाक के ग्राम बैरा बम्हनी नदी रेत खदान में ठेकेदारों द्वारा एक तो नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के नियमों को ताक पर रख दिया गया है, दूसरे रायल्टी दर से चार गुना अधिक पैसा वसूला जा रहा है। इससे खनिज विभाग की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठने लगे हैं।

श्री चंद्राकर ने कहा, वहां सुबह जिन पाँच हाईवा और एक पोकलेन को रेत के अवैध उत्खनन के मामले में जब्त किया गया था, शाम को उन्हीं हाईवा और पोकलेन को फिर रेत उत्खनन करते देखा गया। इसी प्रकार महासमुंद के बरबसपुर रेत घाट की पर्यावरण एनओसी 13 अप्रैल को खत्म होने के बाद भी इस रेत घाट में जेसीबी और चेन माउंटेन मशीनें लगाकर दिन-रात रेत निकाली जा रही है। इसी तरह बड़गांव रेत घाट से भी नियम विरुद्ध जेसीबी मशीनें और चेन माउंटेन लगाकर दिन-रात रेत निकाली जा रही है। महानदी के इन दोनों रेत घाटों से रोजाना सैकड़ों हाईवा रेत निकालकर बड़गांव, बरबसपुर और बिरकोनी में अवैध रूप से स्टॉक किया जा रहा है। अभी आलम यह है कि यहां अलग-अलग जगहों पर 100 एकड़ से भी अधिक रकबे में करीब 40 हजार ट्रक रेत डंप है।

श्री चंद्राकर ने कहा, यहां रेत डंप करने के लिए कोई निजी भूमि, सरकारी घास भूमि नहीं बची तो औद्योगिक एरिया में फैक्ट्रियों के अंदर, बाहर और उन प्लाटों में भी रेत का अवैध स्टॉक किया जा रहा है, जो उद्योग स्थापित करने के लिए आवंटित किए गए हैं। पिथौरा क्षेत्र की प्रमुख जोंक नदी से लगातार अवैध रेत उत्खनन कर जंगलों में रेत का पहाड़ खड़ा किया जा रहा है। हरे भरे पेड़-पौधों के बीच रेत के पहाड़ खड़े होने से अब इस क्षेत्र का पर्यावरण संतुलन भी बिगड़ने के कगार पर पहुंच गया है। यहां उगने वाले नए पौधे अभी से मरने लगे हैं। जोंक नदी से रेत उत्खनन सांकरा के अलावा कसडोल विकासखंड के ग्राम कुशगढ़ में भी हो रहा है। जोंक नदी के जिस क्षेत्र से सबसे अधिक रेत का उत्खनन किया जा रहा है, वह क्षेत्र टेमरी ग्राम पंचायत के तहत है।

यह भी पढ़ें: रेत की जमकर जमाखोरी, 15 के बाद होगी मुनाफाखोरी

अपने मोबाइल पर REAL TIMES का APP डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button