Stock Market Live Update
national

IMA vs Baba Ramdev : ”अगर सरकार रामदेव की बात से सहमत है तो देश में एलोपैथी से होने वाले इलाज तुरंत बंद कर इसे बैन कर देना चाहिये, क्योंकि रामदेव डॉक्टर नहीं”

इंटरनेट डेस्क। कोरोना संकट के बीच देशभर में इस समय इंडियन मेडिकल एसोसिएशन और बाबा रामदेव के बीच संघर्ष छिड़ा हुआ है। आईएमए जहां एलोपैथी की वकालत कर रहा है वहीं बाबा रामदेव योग को एलोपैथी से बेहतर साबित करने पर तुले हैं। उनका मानना है कि कोरोना में 90 फीसदी लोग योग और आयुर्वेद के सहारे जीवित बचे हैं। एलोपैथी डॉक्टरों ने सिर्फ 10 फीसदी मरीजों की ही जान बचाई है। आईएमए के अध्यक्ष डॉक्टर जॉनरोज ऑस्टिन जयलाल ने अपनी बात रखते हुए कहा कि किसी भी बीमारी के खिलाफ किसी इलाज को मान्यता देना सरकार का काम है।अगर सरकार भी रामदेव की बात से सहमत है तो उन्हें देश में एलोपैथी को बैन कर देना चाहिए। यदि ऐसा नहीं तो बाबा रामदेव के खिलाफ मामला दर्ज होने चाहिये। 


मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, उन्होंने ये भी कहा कि वे नेचुरोपैथी पर किसी भी आयुर्वेदिक डॉक्टर से चर्चा करने के लिए तैयार हैं। वहीं उन्होंने ये भी कहा कि रामदेव से क्यों बात की जानी चाहिए? क्या वे डॉक्टर हैं? जबकि देश में चिकित्सा व्यवस्था का पूरा तंत्र है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय, आईसीएमआर, डीजीसीआई जैसे संस्थान हैं जो कि दवाओं और इलाज से जुड़े आखिरी फैसले लेते हैं। 


उन्होंने एक राष्ट्रीय अखबार को दिए अपने साक्षात्कार में कहा कि रामदेव को एलोपैथी से दिक्कत है तो यहां जाकर शिकायत करनी चाहिए। उन्हें स्वास्थ्य मंत्री या प्रधानमंत्री के पास जाना चाहिए। अगर सरकार को लगता है कि रामदेव के आरोप सही हैं तो एलोपैथी से होने वाल इलाज रोक देने चाहिये। इसे बैन कर देना चाहिये। 

 

अपने मोबाइल पर REAL TIMES का APP डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
COVID-19 LIVE