businessCity

पेट्रोल पंपों में सन्नाटा, एका-दुक्का ग्राहक ही आ रहे, खपत दस फीसदी से भी कम

रायपुर(realtimes) राजधानी रायपुर में हर पेट्रोल पंप में सन्नाटा पसरा हुआ है। सारे कर्मचारी खाली बैठे हैं, दिन भर में गिनती के ही ग्राहक आ रहे हैं। प्रदेश में कुल 1400 पेट्रोल पंपों में लॉकडाउन के कारण पेट्रोल और डीजल की बिक्री नहीं के बराबर हो रही है। सामान्य दिनों में हर राेज 55 लाख लीटर की बिक्री हो जाती थी। इनमें अब 50 लाख लीटर की गिरावट आ गई है।

लॉकडाउन में भले पेट्रोल पंपों को खोलने की छूट है, पर इस छूट का फायदा पंपों को ज्यादा नहीं मिल पा रहा है, क्योंकि न तो ज्यादा लोग घरों से बाहर आ रहे हैं और न ही ज्यादा वाहन चल रहे हैं। ऐसे में इनकी बिक्री का स्तर बहुत ज्यादा गिर गया है। स्थिति यह हाे गई है कि जो पंप रोज 20 हजार लीटर से ज्यादा बेच लेते थे, उनकी बिक्री पांच सौ लीटर भी नहीं हो रही है। ग्रामीण क्षेत्रों के कई पंपों पर स्थिति इससे भी खराब है। वहां दिन भर में भुले भटके कोई ग्राहक आ गया तो आ गया, नहीं तो बोहनी भी नहीं हो रही है।

राजधानी के पंपों में ग्राहकों का टोटा

प्रदेश में पेट्रोल और डीजल का जो सामान्य दिनों में कारोबार होता है, उसका 20 फीसदी रायपुर में होता है। राजधानी सहित रायपुर जिले में करीब 130 पेट्रोल पंप हैं। यहां रोज साढ़े तीन लाख लीटर पेट्रोल और पौने छह लाख लीटर डीजल बिकता है। राजधानी के ज्यादातर पंपों में ग्राहकों का भारी टोटा है। किसी पंप में दिन भर दस-बीस ग्राहक आ रहे हैं तो कहीं दो-चार ही ग्राहक पहुंच रहे हैं। दिन भर पंप के कर्मचारी खाली बैठे हुए हैं। रायपुर जिले में पिछले दो दिनों से दस फीसदी बिक्री भी नहीं हो रही है। जहां तक प्रदेश में खपत का सवाल है तो प्रदेश में रोज करीब 22 लाख लीटर पेट्रोल और 33 लाख लीटर डीजल की बिक्री होती है। कुल मिलाकर 55 लाख लीटर से ज्यादा रोज की बिक्री होती है। इस समय ज्यादातर जिलों में लॉकडाउन के कारण बिक्री प्रभावित हो गई है। पेट्रोल पंप संघ के पदाधिकारियों के मुताबिक इस समय जो दस फीसदी के आस-पास बिक्री हो रही है, वह उन शहरों में रही है जहां पर लॉकडाउन नहीं लगा है। लॉकडाउन वाले शहरों में पांच फीसदी भी बिक्री नहीं हो रही है।

अपने मोबाइल पर REAL TIMES का APP डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button