City

कुशल नेतृत्व से किसी देश या संस्था को मिलती है दिशा : राज्यपाल

सुश्री उइके एसोचैम द्वारा आयोजित वेबीनार में हुई शामिल

रायपुर(realtimes) कुशल नेतृत्व से किसी देश, संस्था या किसी कार्य को दिशा मिलती है। इसके कारण ही किसी देश को स्वतंत्रता मिली, कोई देश प्रगति की शिखर में पहुंचा। किसी संस्था को आगे बढ़ने की राह दिखी। बिना नेतृत्व के कोई भी संस्था दिशाविहीन हो जाती है। सार्थक नेतृत्व ही एक उत्कृष्ट रचना को जन्म देता है। यह बात राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने आज एसोचैम द्वारा आयोजित वेबीनार को संबोधित करते हुए कही। साथ ही उन्होंने अवार्डस ऑफ लीडरशीप एक्सीलेंस-2021 के आयोजन के लिए एसोचैम को बधाई दी।

राज्यपाल ने कहा कि हम अपने देश की बात करें तो हमारे देश में अनेक महान नेतृत्व पैदा हुए है। हम यदि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की बात करें, तो उन्होंने अपने नेतृत्व के दम पर वह कर दिखाया, जो पूरी दुनिया के लिए एक तस्वीर बन गई। उस समय जब पूरा देश गुलाम था, तब भारतीयों को सत्याग्रह और अहिंसा का उपयोग करना सिखाया। उसी की बदौलत हमारे देश को आजादी मिली। मैं पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की बात करूं, जिनके नेतृत्व में काम करने का मौका मिला। मैंने उनके नेतृत्व में राष्ट्रीय महिला आयोग के काम को बखूबी निर्वहन किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हमारा देश तेजी से आगे बढ़ रहा है और उन्होंने ऐसे क्रांतिकारी निर्णय लिए, जिसने पूरी देश की दिशा बदल दी। उनके नेतृत्व में कोरोना काल में एकजुट होकर मुकाबला किया और आज इस बीमारी की वैक्सीन आ गई है और हमारे देश में टीकाकरण प्रारंभ हो गया है। उन्होंने दुनिया के कुछ देशों को वैक्सीन प्रदान कर हमारे देश को पूरे विश्व में स्थापित किया है। आज पूरा विश्व उन्हें सम्मान की नजरों से देखते हुए धन्यवाद दे रहा है।

सुश्री उइके ने कहा कि लेकिन हमें यह जानना चाहिए कि नेतृत्व का गुण एक दिन में नहीं बनता है, उसके लिए समर्पण, लंबा संघर्ष और त्याग की भावना की आवश्यकता होती है। वहीं नेतृत्व सफल होता है जो दूसरों के लिए बिना किसी अपेक्षा की मदद करता है।

राज्यपाल ने कहा कि मेरे सामने कई चुनौतियां आई पर मैं हिम्मत नहीं हारी और वरिष्ठ जनों के मार्गदर्शन और अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति से सामना करती रही। विभिन्न दायित्वों के अलावा राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य, राज्यसभा सांसद, राष्ट्रीय जनजाति आयोग की उपाध्यक्ष और छत्तीसगढ़ की राज्यपाल बनने का अवसर प्राप्त हुआ। सुश्री उइके ने कहा कि राज्यपाल के रूप में आज करीब एक साल 7 महीने हो रहे हैं, इस दौरान मैंने प्रयास किया कि मैं एक राज्यपाल नहीं एक पालक के रूप में कार्य करूं और हर जरूरतमंद की समस्या को समझने और समाधान करने की कोशिश की। राज्यपाल ने कहा कि एसोचैम पूरे भारत वर्ष में उद्योग समूह के संगठन के रूप में कार्य कर रहा है। साथ ही यह समय-समय पर देश के व्यापार और वाणिज्यिक, उद्योग समूह को अपने सुझाव के द्वारा उचित दिशा प्रदान करने का कार्य कर रहा है।

इस अवसर पर विभिन्न संस्थाओं के प्रमुखों को उनके नेतृत्व के लिए एसोचैम नेशनल लीडरशिप एक्सीलेंस अवार्ड्स 2021 से सम्मानित किया गया। इसके अतंर्गत हेल्थ केयर के लिए ओके लाईफ केयर प्राईवेट लिमिटेड, आउटस्टैंडिंग स्टार्टअप के लिए वेरी लाईफ प्रोडक्ट्स प्राईवेट लिमिटेड, स्कील डेव्हलपमेंट एवं वोकेशनल ट्रेनिंग के लिए प्रोस्कील््स, बेस्ट बी-स्कूल्स के लिए इंटरनेशनल स्कूल ऑफ बिजनेस एवं मीडिया, बेस्ट एविएशन इंस्टीट्यूट का अवार्ड फ्रेंकफिन इंस्टीट्यूट ऑफ एयरहॉस्टेज ट्रेनिंग संस्था, लाईफ साइंसेस स्कीलिंग एंड वोकेशनल ट्रेनिंग प्रोग्राम्स के लिए क्लिनिमाइंड्स टेनेट हेल्थ एडुटेक प्राईवेट लिमिटेड, फार्मासेटिकल के लिए फाइनकेयर फार्मासेटीकल्स लिमिटेड एवं बेस्ट यूनिवर्सिटी ऑफ द ईयर का अवार्ड गनपत यूनिवर्सिटी को प्रदान किया गया। इस अवसर पर राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार, पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद तथा एसोचैम संस्था के पदाधिकारीगण उपस्थित थे।

अपने मोबाइल पर REAL TIMES का APP डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
COVID-19 LIVE