City

शराब सेस की राशि के दुरुपयोग की महालेखाकार से शिकायत

भाजपा विधायक दल ने स्पेशल ऑडिट की मांग की
जरूरत पड़ी तो दिल्ली जाकर सीएजी से मिलेंगे

रायपुर(realtimes) छत्तीसगढ़ सरकार पर सेस की राशि का दुरुपयोग किये जाने का आरोप लगाते हुए भाजपा विधायक दल ने शुक्रवार को महालेखाकार से मुलाकात कर स्पेशल ऑडिट करनेे की मांग की है। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के नेतृत्व में भाजपा विधायक नारेबाजी करते हुए विधानसभा से पैदल ही महालेखाकार ऑफिस पहुँचे। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ी तो इसके लिए दिल्ली जाकर सीएजी से भी मिलेंगे।

महालेखाकार को सौंपे गए ज्ञापन में भाजपा विधायक दल ने कहा है कि कोविड 19 महामारी के बीच अधोसंरचना उन्नयन की दलील देकर सरकार ने शराब पर सेस लगाया था। देशी और विदेशी शराब पर लगाए गए सेस से 3 मार्च तक करीब 364 करोड़ रुपये वसूल किये गए, लेकिन 31 जनवरी तक स्वास्थ्य विभाग को कोरोना के लिए कोई भी राशि नहीं दी गई। इसके अलावा 1 अप्रैल 2020 से गौठान के विकास तथा रखरखाव के लिए देशी और विदेशी शराब पर लगाए गए अतिरिक्त आबकारी शुल्क से करीब 156 करोड़ रुपये वसूले गए लेकिन पंचायत एवं कृषि विभाग को एक भी राशि नही दी गई है। उस राशि का उपयोग गोधन न्याय योजना पर खर्च किया जा रहा है। इस अवसर पर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि  सेस लगाते समय स्पष्ट किया कि इससे मिलने वाली राशि गौठान विकास के लिए खर्च होगी। गोधन योजना और गौठान योजना दोनों अलग है। दोनों की एजेसी अलग है, लेकिन गोबर खरीदी का भुगतान सेस की राशि से किया जा रहा है. ये सेस राशि का दुरुपयोग है.। वरिष्ठ बीजेपी विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने कहा यदि कोविड पर सेस लगाया तो उस पर ही खर्च कर सकते हैं। गौठान पर सेस लगाया तो उस पर खर्च कर सकते हैं. लेकिन दूसरे मदों में सरकार खर्च कर रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button