business

Financial Problem : शादी के बाद अमूमन फाइनेंसियल प्रॉब्लम का सामना हर कपल को करना पड़ता है लेकिन आप इन आदतों को शामिल कर इससे बच सकते हैं

इंटरनेट डेस्क। शादी के बाद अमूमन व्यक्ति की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। सिंगल में तो व्यक्ति का गुजारा कम पैसों में चल जाता है। जब तक कोई भी व्यक्ति अकेले रहता है तब तक बहुत अधिक जिम्मेदारियों से वंचित रहता है, लेकिन शादी होने के बाद कई तरह के दायित्व आ जाते हैं। मैरिड कपल्स के लिए ऐसे ही कुछ फाइनेंशियल टिप्स हैं जो उन्हें शादी के बाद अपने वित्त का प्रबंध करने में मददगार साबित होगी।

मनी माइंडसेट करें

यह सीखना जरूरी है कि एक-दूसरे की मनी माइंडसेट के बारे में कैसे बात करें और उनमें से प्रत्येक के लिए पैसे का उपयोग कैसे करना है। इस बात पर खुली चर्चा करने से छोटे और दीर्घकालिक वित्तीय लक्ष्यों को पहचानने में मदद मिल सकती है।

लाइफ इंश्योरेंस और हेल्थ इंश्योरेंस के लिए गोल सेट करें

शादी के बाद अगर दोनों लोग कमाने वाले हैं तो इसके कई फायदे हैं। इससे खर्चों को दोगुना किये बिना आय को दोगुना किया जा सकता है। पैसे के लिए तैयार रहना और साथ मिलकर इसके लिए एक गोल सेट करना काफी कारगर सिद्ध होगा। कपल्स को लाइफ इंश्योरेंस या हेल्थ इंश्योरेंस भी लेना चाहिए। इसके अलावा निवेश गोल बेस्ड होना चाहिए। दरअसल, जहां तक गोल की बात है तो यह व्यक्तिगत और कॉमन भी हो सकता है।

इमरजेंसी फंड

शादी के बाद पैसे के प्रबंधन के तौर पर निवेश और बीमा दोनों अलग-अलग होना चाहिए। इसके फर्क को समझते हुए आगे बढ़ें। जॉइंट इमरजेंसी फंड से आप किसी भी मुश्किल समय में पैसे पा सकते हैं और किसी भी तरह की वित्तीय कठिनाई में आपको मदद मिलेगी। इमरजेंसी फंड की स्थापना किसी भी अनचाही स्थितियों के लिए पैसे-तैयार होने का एक अच्छा तरीका है। इसके लिए आप किसी वित्तीय सलाहकार या योजनाकार की मदद ले सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button