State

इस दिन से शुरू होगा राजिम माघी पुन्नी मेला, नहीं होंगे सरकारी आयोजन

श्रद्धालुओं की सुविधा को देखते हुए व्यवस्था पूर्ववत रहेगी

गरियाबंद. राजिम माघी पुन्नी मेला केंद्रीय समिति की बैठक आज जिले के प्रभारी मंत्री एवं धर्मस्व मंत्री ताम्रध्वज साहू की अध्यक्षता में राजिम नगर पंचायत के सभा में संपन्न हुई। बैठक में विशिष्ट अतिथि के रूप में राज्य शासन के वन मंत्री मोहम्मद अकबर, राजिम विधायक अमितेश शुक्ल, अभनपुर विधायक धनेंद्र साहू, पूर्व विधायक लेख राम साहू ,रायपुर सम्भाग के कमिश्नर ए टोप्पो की विशेष उपस्थिति में हुई ।

इस बैठक में प्रभारी मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि भारत सरकार की गाइड लाइन के अनुसार कोविड 19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए राजिम माघी पुन्नी मेला का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि कोई बड़े आयोजन नहीं किए जाएंगे और ना ही आयोजन शासकीय होंगे लेकिन श्रद्धालुओं की सहूलियत और सुरक्षा को देखते हुए व्यवस्थाएं पूर्ववत रहेंगे। बेरिकेडिंग, सुरक्षा और भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस प्रशासन द्वारा आवश्यक व्यवस्थाएं की जाएगी।

मंत्री श्री साहू ने कहा की परंपरा के अनुरूप इस वर्ष राजिम माघी पुन्नी मेला 27 फरवरी से 11 मार्च तक आयोजित होगा। इस दौरान 3 स्नान पर्व  27 फरवरी, 6 मार्च और 11 मार्च को होगा। यह स्वस्फूर्त आयोजन होगा। उन्होंने कहा कि लोगों की सुविधा के लिए पूर्व आयोजन की तरह सड़क, शौचालय ,बिजली, पानी ,स्वास्थ्य सफाई आदि की व्यवस्था की जाएगी। नगर पंचायत राजिम व नयापारा को सफाई की जिम्मेदारी दी गई है। इसी तरह अन्य विभागों को भी उनके कार्य के अनुरूप जिम्मेदारी दी गई है।

प्रभारी मंत्री ताम्रध्वज साहू ने गरियाबंद जिले के कलेक्टर निलेश क्षीरसागर को इस संबंध में आवश्यक चर्चा कर तैयारी करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोविड 19 के  चलते कोई भी स्टेज कार्यक्रम नहीं आयोजित होंगे लेकिन आम जनता और श्रद्धालुओं की आस्था का भी सम्मान किया जाएगा।

इस अवसर पर वन मंत्री मोहम्मद अकबर ने कहा कि वन विभाग द्वारा राजिम पुन्नी मेला के आयोजन में जो भी मदद की आवश्यकता होगी, दी जाएगी। अभनपुर विधायक धनेंद्र साहू ने नदी के दोनों ओर जमा हुए शिल्ड को निकालने का सुझाव दिया। प्रभारी मंत्री ने कलेक्टर गरियाबंद को इस संबंध में कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं। राजिम विधायक अमितेश शुक्ल ने राजिम पुन्नी मेला के महत्व को बताते हुए कहा कि यह सैकड़ों वर्ष पुरातन परंपरा है जो आज भी जारी है। उन्होंने कहा कि राजिम मेला के आयोजन में इस बार का ख्याल रखा जाए कि श्रद्धालुओं को  त्रिवेणी संगम में स्नान की सुविधा मिले, कोई भी श्रद्धालु निराश न हो। इस दौरान मौजूद नागरिकों और पत्रकारों ने भी आवश्यक सुझाव रखें। बैठक में केन्द्रीय समिति के सदस्य,जनप्रतिनिधि, कलेक्टर गरियाबंद व धमतरी, पुलिस अधीक्षक ,गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

अपने मोबाइल पर REAL TIMES का APP डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button