City

मंदिर हसौद पीएचसी ने लगातार पांचवी बार कायाकल्प अवार्ड में मारी बाजी

रायपुर। राजधानी से करीब 20 किमी की दूरी पर मंदिर हसौद में संचालित हेल्थ एवं वेलनेस सेंटर ( पीएचसी) ने कायाकल्प अवार्ड में लगातार पांचवी बार बाजी मारी है। मंदिरहसौद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के अंतर्गत 6 उपस्वास्थ्य केंद्रों पर आश्रित 26 ग्राम पंचायतों की कुल 56,790 ग्रामीण जनसंख्या को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं दे रहा है। आयुष्मान भारत योजना के तहत हेल्थ एवं वेलनेस सेंटर के रुप में विकसित होने पर सुरक्षित प्रसव, मरीजों के लिए बेहतर इलाज, निशुल्क दवाईयां, जांच, साफ-सफाई एवं चिकित्सा सुविधाओं को मुहैया कराने में एक मिसाल कायम किया है। इस स्वास्थ्य केंद्र  में हर महीने लगभग 100 गर्भवती महिलाओं की  नार्मल डिलवरी कारवाई जा रही  है।  

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की प्रभारी चिकित्सक डॉ. विजय लक्ष्मी अनंत ने बताया, कायाकल्प अवार्ड शुरु होने के बाद ही वर्ष-2015 से 2020 तक लगातार 5 वर्षों से जिला स्तर पर पीएचसी की श्रेणी में आरंग ब्लॉक के मंदिर हसौद स्वास्थ्य केंद्र अव्वल रहा है। उन्होंने बताया, पीएचसी में पदस्थ स्वास्थ्य कर्मियों  द्वारा मरीजों को चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराने में सराहनीय कार्यों के लिए पुरस्कृत हो रहे हैं। इन सब में स्टॉफ का नम्र व्यवहार, बेहतर लैब सुविधा, और अच्छी देखभाल इस तरह की विशेषताएं शामिल है।  यह पुरस्कार अस्पतालों के बीच प्रतिस्पर्धा के आधार पर नहीं बल्कि साफ सफाई, परिसर के अंदर एवं बाहर स्वच्छता, बिल्डिंग के रखरखाब, स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता आदि 7 मानकों में किए गए सुधार कार्य के आधार पर दिए जा रहे हैं। यह स्वास्थ्य केंद्र राष्ट्रीय स्तर पर मिलने वाले नेशनल क्वालिटी इंश्यारेंस सर्टीफिकेशन (एनक्यूएएस ) अवार्ड वर्ष-2020-21 के लिए भी प्रतिस्पर्धा में शामिल होकर नामित हुए हैं जिसका परिणाम भी जल्द घोषित होने की संभावना है।

इसलिये मिला पुरस्कार

कायाकल्प अवार्ड स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत दिया जाता है जिसमें सरकारी अस्पताल की साफ-सफाई एवं उन्नयन कार्य पर जोर दिया जाता है। सरकारी अस्पताल में इलाज की व्यवस्था, साफ सफाई एवं हेल्थ पैरामीटर पर खरा उतरने वाले अस्पतालों को यह पुरस्कार दिया जाता है। स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी चिकित्सक डॉ. श्रीमती अनंत का कहना है, हॉस्पिटल रखरखाव, संक्रमण नियंत्रण, बायोवेस्ट निपटान आदि में अस्पताल का बेहतर प्रदर्शन रहा है। इसके लिए कायाकल्प अवार्ड का 2 लाख रुपये पुरस्कार स्वरूप प्राप्त होंगे। पुरस्कार की राशि का 80 फीसदी जीवनदीप समिति में और 20 फीसदी राशि स्टॉफ को प्रोत्साहन के रुप में प्रदान किया जाता है। राशि का उपयोग मरीजों को बेहतर सेवाएं देने, सफाई कर्मी व गार्डन के रख रखाव के लिए व्यय किया जाता है। स्वास्थ्य केंद्र में संक्रमण नियंत्रण आदि मूलभूत सुविधाओं में बहुत विस्तार लगातार हुआ है, जिससे संतुष्ट होने के कारण मरीजों की संख्या में वृद्धि हुई है। वर्ष 2017-18 में ओपीडी 23278, आईपीडी 1734, नार्मल डिलवरी 875, वर्ष- 2018-19 में ओपीडी 24208, आईपीडी 1581, नार्मल डिलवरी 1052 जबकि वर्ष 2019-20 में ओपीडी 26742, आईपीडी 1628, डिलवरी 911 हो रही है।

हेल्थ एवं वेलनेस सेंटर में आकर्षक गार्डन

हेल्थ एवं वेलनेस सेंटर के रुप में अपनी पहचान बनाने वाले स्वास्थ्य केंद्र के परिसर में सुंदर मनमोहक और आकर्षक गार्डन के साथ बच्चों के लिए कीड्स प्लेइंग जोन यानी नोनी लईका डेरा बनाया गया है जो स्वास्थ्य केंद्र  में आने वाले मरीजों के बच्चों के लिए सुंदरता व विशेष आकर्षण का केंद्र है। साफ सुथरा भवन व अस्पताल परिसर के गार्ड तनाव भरी जीवन में सुकुन के पल देता है। तनाव, अनिंद्रा, उच्च रक्तचाप, शुगर में सुधार के लिए सेहतमंद बनाने का नया प्रयोग कर संगीत चिकित्सा की शुरुआत भी हो चुकी है। योगा ट्रेनर द्वारा प्रति दिन फिटनेस का डोज देने एक घंटे रोज योगा क्लास एवं जुम्बा डांस कराते हैं जिसमें ग्रामीण बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेते हैं। चिकित्सा क्षेत्र में वृद्व, वरिष्ठ जन क्लिनिक, मेंटल हेल्थ क्लिनिक, विवाह पूर्व परामर्श, टीकाकरण, किशोरी बालिका क्लिनिक, एनक्यूएएस मापदंडों सहित परिवार जैस वातावरण बना रहता है।  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button