City

पहले चरण में 2.7 लाख स्वास्थ्य कर्मचारियों को COVID टीका लगाने की तैयारी

रायपुर. छत्तीसगढ़ सरकार पहले चरण में लगभग 2.7 लाख स्वास्थ्य कर्मियों के COVID19 टीकाकरण का प्रबंध करेगी, जिसमें मितानिन और आंगनवाडी कार्यकर्ता शामिल हैं। यह घोषणा आज आयोजित राज्य-स्तरीय मीडिया परामर्श के दौरान, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की प्रबंध संचालक सुश्री प्रियंका शुक्ला द्वारा की गयी। टीकाकरण की शुरुआत 16 जनवरी 2021 से होगी।

मीडिया के वरिष्ठ सदस्यों को विभाग द्वारा तैयार, प्रशिक्षण, प्रक्षेपण और COVID टीकाकरण रोल-आउट पर विस्तारपूर्वक जानकारी दी गयी। यह आयोजन  विभाग द्वारा प्रायोजित और UNICEF, WHO और UNDP द्वारा समर्थित किया गया।

छत्तीसगढ़ में यूनिसेफ के प्रमुख जॉब ज़करिया ने कहा की भारत में अब तक के सबसे बड़े टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत की जा रहा है,  जिससे लाखों लोग लाभान्वित होंगे। उन्होंने कहा उन्होंने कहा आगे कहा कि “मीडिया और समुदाय की भागीदारी सुनिश्चित करने, संचार सामग्री के विकास और कोल्ड चेन प्रबंधन में राज्य सरकार का समर्थन करने हेतु यूनिसेफ प्रतिबद्ध है।” श्री ज़करिया ने मीडिया को असत्य खबरों और टीके से जुड़ी गलत जानकारी के बारे में आगाह किया। उन्होंने मीडिया से अनुरोध किया कि वे स्वास्थ्य विभाग के साथ डेटा और जानकारी की वास्तविक जाँच करें और केवल प्रामाणिक स्रोतों द्वारा साझा की गई जानकारी पर भरोसा करें।

राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ अमर सिंह ठाकुर ने बताया कि राज्य के सभी 28 जिलों में 1349 सत्र स्थलों की पहचान की गई है। इसमें सरकारी और निजी स्वास्थ्य सुविधाएं, स्कूल, सामुदायिक हॉल, ग्राम पंचायत और नगर पालिका भवन शामिल हैं। “कुल 7,116 वैक्सीनेटरों की पहचान की गई है और उन्हें प्रशिक्षित किया गया है। टीम के 13,516 अन्य सदस्यों के प्रशिक्षण की प्रक्रिया जारी है। टीकों के सुरक्षित भंडारण और परिवहन के लिए, 85,000 लीटर कोल्ड चेन स्थान के साथ 630 फंक्शनल कोल्ड चेन पॉइंट उपलब्ध कराए गए हैं और साथ ही 81 अतिरिक्त कोल्ड चेन पॉइंट स्थापित किए जा रहे हैं। कुल 29,000 वैक्सीन वाहक और 1,311 कोल्ड बॉक्स का उपयोग सत्र स्थलों पर वैक्सीन ले जाने के लिए किया जाएगा। सिरिंज, सुई और अन्य लॉजिस्टिक्स के भंडारण के लिए 360 साइटों पर ड्राई स्टोरेज की पहचान की गई है। राज्य सरकार ने अतिरिक्त 27,500 वैक्सीन वाहक और 300 कोल्ड बॉक्स की व्यवस्था के  लिए भारत सरकार से अनुरोध किया है।

डब्ल्यूएचओ के डॉ प्रणितकुमार काशीनाथराव फटाले ने कहा कि डब्ल्यूएचओ द्वारा टीकाकरण की शुरूआत में परिचालन दिशानिर्देशों के विकास, विभिन्न संवर्गों की क्षमता निर्माण और निगरानी जैसे कार्यों में राज्य सरकार को तकनीकी सहायता प्रदान की जाएगी। अंशुमान मोइत्रा, यूएनडीपी ने कहा कि यूएनडीपी को-विन प्रणाली (Co- WIN system) के विकास में सहायता कर रहा है, जो एक क्लाउड-आधारित आईटी प्लेटफॉर्म है| इससे लाभार्थी पंजीकरण, सत्र माइक्रोप्लानिंग, टीकाकरण की रियल-टाइम रिपोर्टिंग और टीकाकरण प्रमाणपत्र जारी करने में मदद मिलेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button