State

अब घर में ही वृक्षारोपण के लिए मिलेंगे निःशुल्क पौधे

वन मंत्री ने हरियाली प्रसार वाहन योजना किया शुभारंभ

रायपुर(realtimes) वन मंत्री मोहम्मद अकबर ने आज इंदिरा निकुंज माना रोपणी में हरियाली प्रसार वाहन योजना का शुभारंभ किया। उन्होंने वाहन को हरी झण्डी दिखाई। इस अवसर पर श्री अकबर ने कहा कि-अब वृक्षारोपण करने के इच्छुक नागरिकों को नर्सरी या अन्य जगह जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। उन्हें घर में ही पौधे प्राप्त हो जाएंगे, इसका कोई शुल्क भी नहीं लगेगा। बस एक फोन करने की जरूरत पड़ेगी। वन विभाग इच्छुक नागरिकों को जिनके घर में या आस-पास परिसर में वृक्षारोपण की जगह हो, घर में लाकर पौधे प्रदाय करेगा। उन्होने कहा कि यह योजना पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा, हर जिले में इसी तरह का एक वाहन उपलब्ध कराया जाएगा और घर में पौधे पहुंचाने की सेवा दी जाएगी।

श्री अकबर ने कहा कि प्रदुषण मुक्त वातावरण बनाने के लिए सबसे सही उपाय वृक्षारोपण ही है। आवश्यकता है कि हम छायादार और फलदार पौधे का रोपण करें और उनके संरक्षण जरूर करें। वन मंत्री ने इंदिरा निंकुज माना रोपणी का निरीक्षण भी किया और वहां पर विकसित किए गए लंबे पौधे की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि वृक्षारोपण के लिए लंबे पौधे का ही रोपण करें। ऐसे पौधों की जीवित रहने की ंसंभावना अधिक रहती है।

इसके योजना के तहत विभाग द्वारा एक वाहन उपलब्ध कराया गया है। जिसमें एक कर्मचारी का मोबाइन नंबर अकिंत रहेगा। रायपुर शहर के लिए 7587011195 मोबाइल नंबर जारी किया गया है, जिसमें आम नागरिक संपर्क कर पौधे प्राप्त कर सकते हैं।

वन विभाग केे अधिकारियों ने बताया कि इस वर्ष पूरे राज्य में लक्ष्यानुरूप वृक्षारोपण किया जा रहा है। इंदिरा निकुंज माना रोपणी में विभागीय योजना के तहत निःशुल्क वितरण केे लिए पौधे दिए जाते हैं। यहां आंवला, पपीता, नीम्बू, अमरूद, जामुन, शिशु, करंज, मोहगनी, अर्जुन, कचनार, नीम, कुल्लू, झारूल, आम, कटहल, महुआ, बांस इत्यादि पौधे उपलब्ध है। जोरा शहरी रोपणी में चक्रिय निधि केे तहत पौधे विकसित किए जाते हैं। यहां पर कोई भी आम नागरिक निर्धारित राशि केे तहत पौधे खरीद सकते हैं। वन विभाग ने छोटे पॉलिथीन- 20 रूपए, मध्यम पॉलिथीन-35 रूपए और बड़ी पॉलिथीन-100 रूपए राशि तय की है। यहां पर छायादार, औषधीय, सजावटी एवं फूलों के पौधे उपलब्ध है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button