national

जन्मदिन विशेष: मनमोहन सिंह को जाता है देश में आर्थिक सुधारों को आगे बढ़ाने का श्रेय, जानिए उनके जीवन से जुड़े रोचक तथ्य

2004-2014 के बीच देश के दो बार प्रधानमंत्री रहे डॉक्टर मनमोहन सिंह आज 88 वर्ष के हो गए। 1991 के बजट में एक के बाद एक आधुनिक भारत और देश में आर्थिक सुधारों को आगे बढ़ाने का श्रेय मनमोहन सिंह जाता है। वह नरसिम्हा राव सरकार के वित्त मंत्री थे।
वो पहले सिख हैं, जिन्हें प्रधानमंत्री की कुर्सी हासिल हुई। वो देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के कुछ चुनिंदा सबसे ज्यादा पढ़े लिखे प्रधानमंत्रियों में से एक रहे हैं। अर्थशास्त्र के अलावा उन्हें कई विषयों की मानद डिग्रियां हासिल हैं। डॉक्टर ऑफ लॉ, डॉक्टर ऑफ सिविल लॉ, डॉक्टर ऑफ सोशल साइंसेज, कई यूनिवर्सिटीज़ के डॉक्ट्रेट ऑफ लेटर्स की उपाधि के साथ विदेशी यूनिवर्सिटी तक ने उन्हें मानद उपाधि दे रखी हैं।

  • मनमोहन सिंह का जन्म 26 सितंबर, 1932 को भारत के विभाजन से पहले पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में हुआ था।
  • उन्होंने पंजाब विश्वविद्यालय, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में अध्ययन किया और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। बाद में उन्होंने पंजाब विश्वविद्यालय के साथ-साथ दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स और दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ाया।
  • डॉक्टर मनमोहन सिंह ने यूपीए द्वारा अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार को हराने के बाद 2004 से 2014 के बीच भारत के 13 वें प्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया। उन्होंने 1998 से 2004 तक राज्यसभा में विपक्ष के नेता के रूप में कार्य किया।
  • मनमोहन सिंह ने 1982 से 1985 तक भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर के रूप में भी कार्य किया।
  • वह वर्तमान में राजस्थान से राज्यसभा सदस्य हैं।
अपने मोबाइल पर REAL TIMES का APP डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
COVID-19 LIVE