City

धान का समर्थन मूल्य 53 रुपए बढ़ाने पर मंत्री रविंद्र चौबे का केंद्र सरकार पर हमला

रायपुर, (Realtimes) कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने धान का समर्थन मूल्य मात्र 53 रूपए बढ़ाने के केन्द्र सरकार के फैसले पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा कि अभी कोरोना महामारी का प्रकोप है। केन्द्र सरकार खुद क्वॉरंटाइन में हैं। यदि क्वॉरंटाइन से निकलकर घोषणा की जाती, तो कुछ उम्मीद की जा सकती थी।

यह कहा गया कि किसान अपनी फसल कहीं भी बेच सकता है। लॉकडाउन के पहले भी किसान अपनी पैदावार को बाहर बेचते रहे हैं। छत्तीसगढ़ के किसानों का टमाटर पाकिस्तान तक बिकता था। उन्होंने जोर देकर कहा कि किसानों को एक रूपए की रियायत तक केन्द्र सरकार नहीं दी गई है।
 

कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने मीडिया से चर्चा में कहा कि केन्द्रीय कृषि मंत्री से आग्रह किया गया था कि समर्थन मूल्य घोषित करने के लिए केन्द्र सरकार की एजेंसियां नाफेड और अन्य के माध्यम से किसानों की उपज को खरीदने के लिए सप्लाई चेन बनाने घोषणा किये जाने की मांग की गयी थी, लेकिन केन्द्र सरकार ने इस पर कोई निर्णय नहीं लिया।

उन्होने कहा कि धान का समर्थन मूल्य 53 रूपए बढ़ाए जाने पर छत्तीसगढ़ सरकार किसानों को जो धान की जितनी कीमत दे रही है, वहां तक पहुंचने में केन्द्र सरकार को 16 साल लगेंगे।
कृषि मंत्री ने राहत पैकेजों पर सवाल खड़े किए और कहा कि केन्द्र सरकार की तरफ से 20 लाख करोड़ के पैकेज का ऐलान किया गया है, लेकिन किसी भी योजना में किसानों को एक रूपए की रियायत या सहायता केन्द्र सरकार की तरफ से नहीं दी गई है।

ये समर्थन मूल्य जो घोषित किया गया है, यह किसानों का अपमान है। उन्होंने कहा कि किसानों के साथ धोखा किया गया है। केन्द्र सरकार द्वारा यह कहा जाना कि किसानों को दिया जाने वाला धान का समर्थन मूल्य स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट के हिसाब से दे रहे हैं, यह कहना पूरे देश के धान उत्पादक किसानों के साथ वादाखिलाफी और किसानों के साथ धोखा है। उपकरण के दाम किसी के नियंत्रण में नहीं, उर्वरक के दाम बढ़ रहे हैं।

कृषि मंत्री चौबे ने कहा कि प्रधानमंत्री असत्य बात बोल रहे है कि उन्होंने किसानों को अपनी फसल दूसरे राज्य में बेचने का अधिकार दिया है। प्रदेश से बाहर के प्रदेश में फसल बेचने का अधिकार मोदी सरकार ने दिया है, जबकि किसानों को पहले भी अपनी फसल बेचने का अधिकार था। मक्का का समर्थन मूल्य 1100 रुपये से ज़्यादा किसानों को नहीं मिल रहा है, क्योकि केंद्र सरकार इससे खरीद नहीं रही है।

कृषि मंत्री चौबे ने कहा कि केन्द्र सरकार किसानों के हित में कोई भी सकारात्मक पहल नहीं कर रही है। छत्तीसगढ में किसानों को 2500 रुपये धान का समर्थन मूल्य मिल रहा है। इस साल सम्मान निधि पौने दो लाख किसानों तक पंहुची है, इसमें 1 रुपये की रियायत भी केंद्र सरकार द्वारा नहीं दी गई है। 52394.1 करोड़ एक साल में छत्तीसगढ़ ने किसानों को दिया।  पूरे देश में जहां लोग एक-एक रुपये के लिए मोहताज हो वहां छत्तीसगढ़ सरकार के सकारात्मक कार्यो से छत्तीसगढ़ की बाजार गुलज़ार है।

मंत्री रवीन्द्र चौबे ने पत्रकारों से चर्चा करते हुये कहा है कि जहां धान की एमएसपी की बात है। अगर छत्तीसगढ़ सरकार के द्वारा किसानों को जो देय राशि 2500 रूपये प्रति क्विंटल पिछले साल से दे रहे है। लगातार भाजपा के नेता इसके खिलाफ अनर्गल प्रलाप करते है।

मोदी सरकार का 53 रूपये की वृद्धि, नरेन्द्र मोदी छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा 2500 रूपये धान की कीमत की बराबरी कर रहे है तो केन्द्र सरकार को 16 साल लगेगा। जो योजना छत्तीसगढ़ सरकार ने 1 साल पहले शुरू कर दिया है। किसानों के हित में कई फैसले लिये गये है। छत्तीसगढ़ में लगभग 27 लाख पंजीकृत किसान है। केन्द्र सरकार द्वारा किसान सम्माननिधि में बढ़ोत्तरी नही की गयी। मोदी सरकार द्वारा दिये गये 20 लाख करोड़ के पैकेज में किसानो के कुछ नही है।
मंत्री रवीन्द्र चौबे ने पत्रकारों से चर्चा करते हुये कहा है कि जहां धान की एमएसपी की बात है। अगर छत्तीसगढ़ सरकार के द्वारा किसानों को जो देय राशि 2500 रूपये प्रति क्विंटल पिछले साल से दे रहे है। लगातार भाजपा के नेता इसके खिलाफ अनर्गल प्रलाप करते है।

मोदी सरकार का 53 रूपये की वृद्धि, नरेन्द्र मोदी छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा 2500 रूपये धान की कीमत की बराबरी कर रहे है तो केन्द्र सरकार को 16 साल लगेगा। जो योजना छत्तीसगढ़ सरकार ने 1 साल पहले शुरू कर दिया है। किसानों के हित में कई फैसले लिये गये है। छत्तीसगढ़ में लगभग 27 लाख पंजीकृत किसान है। केन्द्र सरकार द्वारा किसान सम्माननिधि में बढ़ोत्तरी नही की गयी। मोदी सरकार द्वारा दिये गये 20 लाख करोड़ के पैकेज में किसानो के कुछ नही है।

किसानों के लिए मोदी सरकार ने कुछ नही किया। केन्द्रीय कृषि मंत्री से मैने आग्रह किया है। जैसे हम छत्तीसगढ़ में रकबा का उत्पादन बढ़ा रहे है। इस साल लगभग सवा से साढ़े सात लाख रकबा का उत्पादन हो रहा है। लेकिन मक्का मिनीमम प्राईज सपोट कीमत 1765 रूपये था। केन्द्र सरकार द्वारा बाजार में किसी भी एजेंसी द्वारा नही खरीदने के कारण 1100 रूपये से अधिक नही मिल रहा है। केन्द्र की एजेंसी होती है। हमारे किसानो के उत्पादों को खरीदे। कोई सकारात्मक पहल नही दिखाई दिया।

कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि वे किसानों के साथ छलावा कर रही है। वर्तमान में मोदी किसानों के हित में फैसला नही ले रही है। इसके जो विसंगतिया और कमजोरिया है। इसको देश के सामने, किसानों के सामने, आपके सामने लाना है। किसानों के पास धान बोने के लिए पैसा नही था और महामारी कोरोना फैल चुकी थी कमी नही थी।  

14 फसलो का समर्थन मूल्य घोषित किया गया है। उनमें 2 को छोड़कर सब 5 प्रतिशत उससे कम है। किसानो को 7 प्रतिशत की दर पर कर्ज दिया जाएगा। यह जबकि पुरानी योजना है। जब किसान दबाव और तनाव में है मोदी सरकार ने किसानों का भला करने के लिए कोई ठोस कदम नही उठाए है। समर्थन मूल्य में न्यूनतम बढ़ोत्तरी करते हुए यह कहा कि किसान को लागत डेढ़ गुना मूल्य  मिल रहा है। दरअसल सरकार ने लागत का आकलन ही गलत किया है।

किसानों को ब्याज में छूट नही बल्कि ब्याज पटाने के समय में छूट मिली है। कर्ज चुकाने पर 3 प्रतिशत सब्सिडी देने की बात कही है जबकि यह छूट पहले से मिलते आ रही है। समर्थन मूल्य में 53 रूपये बढ़ाया गया है लेकिन अगर प्रतिशत में देखे तो पिछले साल की तुलना में सर्मथन मूल्य सिर्फ 2.92 प्रतिशत बढ़ा है। छत्तीसगढ़ धान का कटोरा कहा जाता है। समर्थन  मूल्य में 53 रूपये बढ़ाया गया है। पिछले साल की तुलना में 3 रूपये की वृद्वि किया गया है। आखिर  3 रूपये होता क्या है।

53 रूपये की कीमत बढ़ाने से धान की कीमत 1868 हो गया है। ये पूरा हिंदुस्तान में धान उत्पादक किसानों के साथ वादाखिलाफी है। केन्द्र सरकार का धोखा भी है। केन्द्र सरकार लगातार किसानों के साथ इस प्रकार व्यवहार कर रही है। महंगाई का आंकड़ा लगातार लंबा होता जा रहा है। जरूरी सामान की कीमतों को कंट्रोल नही किया जा रहा है।
छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा दो वर्षो में किसानों को दी गयी राशि के आंकड़े मंत्री रवीन्द्र चौबे ने जारी किये। 

विवरणवर्षकिसान संख्या (लाख में )राशि (करोड़ में)
अल्पकालीन कृषि ऋण माफ2019-2017.008700.00
समर्थन मूल्य में धान खरीदी2018-19 15.7714073.31
प्रोत्साहन राशि2018-196021-69
समर्थन मूल्य में धान खरीदीप्रोत्साहन राशि (न्याय योजना)2019&20    18.3515280.00
2019&20    1500-00
शेष भुगतान योग्य    4200-00
समर्थन मूल्य में गन्ना खरीदी2018&19 0-10315-03
प्रोत्साहन राशि2018&1950-00
समर्थन मूल्य में गन्ना खरीदी2019&20 0-34206-69
प्रोत्साहन राशि  2019&2083-83
फसल बीमा (खरीफ)2018&196-531070-63
 2019&204-57634-57
(उद्यानिकी)20190-1014-39
योग 52149-94
सिंचाई जलकर माफ2019&20170-05244-18
महायोग52394-14

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button