City

छत्तीसगढ़ में अदाणी इंटरप्राइजेज लिमिटेड ने मनाया योग दिवस

रायपुर(realtimes) सूरजपुर और सरजुगा जिला प्रशाशन की साथ भागीदारी कर अदाणी इंटरप्राइजेज लिमिटेड ने शुक्रवार 21 जून को छत्तीसगढ़ में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया। यह आयोजन राजस्थान राज्य विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड द्वारा आयोजित करवाया गया था।

दोनों जिलों से 1000 से भी अधिक लोगों ने साथ में योगा और प्राणायाम किया। स्थानीय निवासियों के अनुसार यह भारतीय अध्यात्म के महत्वपूर्ण स्तम्भ योग्त्सव को मनाने के लिऐ आज तक की सबसे बड़ी सभा थी।

अदाणी इंटरप्राइजेज लिमिटेड और उसके सी.एस.आर सहयोगी अदाणी फाउंडेशन का लक्ष्य ग्रामीण क्षेत्रों के नौजवान, महिलओं और बच्चों को योग के दीर्घावधि लाभ के बारे में जागृत करना है। इस अभियान के तहत छत्तीसगढ़ की यथापूर्व स्तिथि में बदलाव होने की संभावना है, जो वर्तमान समय में काफी चिंताजनक है क्यूंकि 2017 केसंयुक्त राष्ट्र मानव विकास सूची में छत्तीसगढ़ का स्थान काफ़ी नीचे है।

महिला और पुरुष दोनों को स्वस्थ अभ्यास से अवगत  करने हेतु संचालित किये गए। इस कार्यक्रम को ग्राम पंचायत और महिला कोआपरेटिव (महिला उद्यमी बहुउद्देशीय सहकारी समिति) का भी भरपूर सहयोग मिला।

महिला कोआपरेटिव को सशक्त कर महिलाओ को आत्मनिर्भर बनाने में अदाणी फाउंडेशन की महत्वपूर्ण सहभागिता रही है।

इसके अतिरिक्त प्रारंभिक रूप से संचालित अभियानों में ग्रामीणों को स्वच्छता दूत बनने हेतु प्रेरित एवं प्रशिक्षित किया जा रहा है। साथ ही साथ महिला कोआपरेटिव द्वारा सस्ते और सुलभ सेनेटरी पैड का निर्माण और वितरण किया जा रहा  है ताकि हर महिला  को उसके हिस्से की मुलभुत सुविधा प्राप्त हो।

 अदाणी फाउंडेशन के बारे में

1996 में स्थापित अदाणी फाउंडेशन वर्तमान में 18 राज्यों में सक्रिय है, जिसमें देश भर के 2250 गाँव और कस्बे शामिल हैं। फाउंडेशन के पास प्रोफेशनल लोगों की टीम है, जो नवाचार, जन भागीदारी और सहयोग की भावना के साथ काम करती है। वार्षिक रूप से 3.2 मिलियन से अधिक लोगों के जीवन को प्रभावित करते हुए अदाणी फाउंडेशन चार प्रमुख क्षेत्रों- शिक्षा, सामुदायिक स्वास्थ्य, सतत आजीविका विकास और बुनियादी ढा़ंचे के विकास, पर ध्यान केंद्रित करने के साथ सामाजिक पूंजी बनाने की दिशा में काम करता है। अदाणी फाउंडेशन ग्रामीण और शहरी समुदायों के समावेशी विकास और टिकाऊ प्रगति के लिए कार्य करता है, और इस तरह, राष्ट्र-निर्माण में अपना योगदान देता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button