national

राज्यों के सीएम के साथ पीएम मोदी की चर्चा, जानिए किसने क्या कहा ?

नईदिल्ली, (Realtimes) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कोरोना वायरस और देश में जारी लॉकडाउन को लेकर राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात की. इस बैठक में मुख्यमंत्रियों ने अपने-अपने राज्यों की स्थिति की जानकारी पीएम को दी । बैठक में प्रवासी मजदूरों को लेकर भी चर्चा हुई.

मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री की बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ कई कैबिनेट मंत्री भी मौजूद रहे।  बैठक से पहले केन्द्र सरकार ने रविवार को यह साफ कर दिया था कि कंटेनमेंट ज़ोन में गाइडलाइंस का कड़ाई से पालन सुनिश्चित हो। साथ ही कोरोना संक्रमण वाले इलाकों की साफ तौर पर घेराबंदी की जाए। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की बड़ी बातें जानिए

बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया का कहना है कि हम सफलतापूर्वक कोरोना के खिलाफ इस पूरी लड़ाई में लड़ रहे हैं। इसमें राज्य सरकारों ने अहम भूमिका निभाई है। सभी सरकारों ने अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए इस महामारी के खिलाफ लड़ाई में अपनी भूमिका निभाई है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमने शुरू से इस बात पर जोर दिया कि जो जहां हैं वहीं रहें । लेकिन घर जाना मानव का स्वभाव होता है, इसलिए हमने अपना निर्णय बदला । इसके बावजूद, हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि यह बीमारी गांवों में नहीं फैले। यही हमारे लिए बड़ी चुनौती है।

इस बैठक में गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद थे उन्होने आरोग्य सेतु मोबाइल एप के महत्व पर प्रकाश डाला और मुख्यमंत्रियों से इसके डाउनलोड को लोकप्रिय बनाने के लिए आग्रह किया.

इस दौरान तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव इस बात पर आशंका जाहिर की है कि ट्रेन सेवा की शुरुआत होने पर कोरोना संक्रमण फैल सकता है और स्क्रीनिंग करना मुश्किल हो जाएगा । उन्होंने कहा ट्रेन सेवा को रोका जाना चाहिए।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बैठक में तमिलनाडु ने एनएचएम फंड जल्द से जल्द जारी करने की मांग करते हुए राज्य के लिए 2000 करोड़ रुपये की विशेष मदद और लंबित पड़ी जीएसटी की राशि जारी करने के लिए कहा।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी ने पीएम मोदी के साथ बैठक के दौरान कहा कि राज्य में करीब 30 हजार लोगों को अतिसंवेदनशील मानकर उनकी जांच की गई। हालात सामान्य करने की जरूरत है। कोरोना पॉजिटिव परिवार सामाजिक बहिष्कार का सामना कर रहे हैं।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि राज्य के अंदर आर्थिक गतिविधियों के संचालन के निर्णय का अधिकार राज्य सरकार को मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को लेकर रेड, ग्रीन और ऑरेंज जोन के निर्धारण का दायित्व राज्य सरकारों को दिया जाना चाहिए। 

सीएम रेड्डी ने कहा कि लोगों से यह अपील की है कि वे सेल्फ आइसोलेशन के लिए आगे आएं। हमें लोगों को वैक्सीन के तैयार होने तक इस कोरोना वायरस के साथ जीने के लिए तैयार करना होगा। हमें वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए व्यापक तौर पर जागरूक करना होगा।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पीएम मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक के दौरान कहा, ‘एक राज्य के तौर पर हमले कोरोना संक्रमण से लड़ने में अपना बेहतर कर रहे हैं। केन्द्र को इस मुश्किल घड़ी में राजनीति नहीं करनी चाहिए।’ उन्होंने कहा कि हमें टीम  इंडिया की तरह काम करना चाहिए।

गुजरात के मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन को कंटेनमेंट जोन तक ही सीमित रखा जाना चाहिए। सुरक्षात्मक उपायों के साथ आर्थिक गतिविधियों को शुरू करने के साथ ही और गर्मी छुट्टी के बाद स्कूल- कॉलेजों को खोलने और सार्वजनिक परिवहन को धीरे से शुरू करना चाहिए।

अपने मोबाइल पर REAL TIMES का APP डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button